अध्यापकों को इस अभ्यास में दिखाएगा कि वह क्या कहता

अध्यापकों को इस अभ्यास में दिखाएगा कि वह क्या कहता है भाग 04 जनवरी / 018 कमेंटरी बिशप सिंपलियो – यहोशू के मित्र ‘ विषय: अध्यापकों को अभ्यास में दिखाए जाने की आवश्यकता है स्रोत: येहुशु चर्ममेंट ‘ Leit.Mt.7: 15-29 15 झूठे भविष्यद्वक्ताओं से सावधान रहें, जो भेड़ों के कपड़ों में आपके पास आते हैं, परन्तु अंदर से वे भेड़ियों को खा रहे हैं। 16 उनके फलों से तुम उन्हें जानोगे, क्या वे कांटों के अंगूर, या काँटे के अंजीर इकट्ठा करेंगे? 17 इसलिए हर अच्छे पेड़ में अच्छा फल होता है; परन्तु बुरे वृक्ष बुरा फल लाता है। 18 एक अच्छा पेड़ बुरा फल सहन नहीं कर सकता; न ही बुरे पेड़ को अच्छे फल देते हैं। 19 हर वृक्ष जो अच्छे फल का उत्पादन नहीं करता, उसे काटकर आग में फेंक दिया जाता है 20 इसलिए उनके फल से आप उन्हें पता चल जाएगा। 21 जो कोई मुझ से कहता है, हे प्रभु, हे प्रभु! वह स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करेगा, परन्तु जो मेरे स्वर्ग में है, मेरे पिता की इच्छा करता है। 22 उस दिन बहुत से लोग मुझसे कहेंगे, हे प्रभु, हे प्रभु, क्या हम तेरे नाम से भविष्यद्वाणी नहीं करते? और क्या तेरे नाम से दुष्टात्माएं निकाल दी हैं? और क्या तेरे नाम में हमने बहुत चमत्कार नहीं किए हैं? 23 फिर उन्हें दे दो मैं स्पष्ट रूप से कहूंगा: मैं तुम्हें कभी नहीं जानता; तुम मुझ से दूर हो जाओ, तुम जो झूठ काम करते हो 24 इसलिये जो कोई मेरी ये बातें सुनता है और उनको करता है, वह बुद्धिमान व्यक्ति की तरह समी जाए, जिसने अपना घर चट्टान पर बनाया। 25 और वर्षा नीचे आई, और बाढ़ चले, और पवन उड़ा, और उस घर को मार डाला; अभी तक वह गिर नहीं था, क्योंकि वह चट्टान पर स्थापित किया गया था 26 किन्तु जो कोई मेरी ये बातें सुनता है और उनको व्यवहार में नहीं रखता है, वह मूर्ख व्यक्ति की तुलना में होगा, उसने रेत पर अपना घर बनाया। 27 और वर्षा नीचे आई, और बाढ़ चली गई, और हवाएं उठीं, और उस घर को मार डाला, और वह गिर गया; और उसके पतन के महान थे 28 जब येहुशु ने यह भाषण समाप्त किया था, तो लोग उसके सिखाने पर चकित हुए; 29 क्योंकि उसने उन्हें सिखाया है कि वह अधिकार के साथ है, और शास्त्रियों के समान नहीं है। उद्धरण के साथ उत्तर दें अन्यजातियों में अपने मिशन को पूरा करने में, प्रेषित शाऊल ने कहा: “आप जानते हैं कि मैंने आपके बीच में पहले दिन से एशिया में प्रवेश किया है …” अधिनियमों 20:17 आदि शमूएल में भी इसी तरह का व्यवहार देखा गया था जब उसने प्राचीन इज़राइल से कहा था: “… मैंने तुम्हारे सामने चले गए हैं … मुझे जवाब देने से पहले येह … … किससे मैंने बैल या गधे को लिया है …” ? मैं Sm.12: 1, आदि। आइए हम संतों के इन उदाहरणों का पालन करें, क्योंकि उन्हें शर्मिंदा होने की कोई आवश्यकता नहीं थी। इसके विपरीत हम केवल सफेदी सेबपर्स की तरह होंगे!

adhyaapakon ko is abhyaas mein dikhaega ki vah kya kahata hai bhaag 04 janavaree / 018 kamentaree bishap simpaliyo – yahoshoo ke mitr vishay: adhyaapakon ko abhyaas mein dikhae jaane kee aavashyakata hai srot: yehushu charmament laiit.mt.7: 15-29 15 jhoothe bhavishyadvaktaon se saavadhaan rahen, jo bhedon ke kapadon mein aapake paas aate hain, parantu andar se ve bhediyon ko kha rahe hain. 16 unake phalon se tum unhen jaanoge, kya ve kaanton ke angoor, ya kaante ke anjeer ikattha karenge? 17 isalie har achchhe ped mein achchha phal hota hai; parantu bure vrksh bura phal laata hai. 18 ek achchha ped bura phal sahan nahin kar sakata; na hee bure ped ko achchhe phal dete hain. 19 har vrksh jo achchhe phal ka utpaadan nahin karata, use kaatakar aag mein phenk diya jaata hai 20 isalie unake phal se aap unhen pata chal jaega. 21 jo koee mujh se kahata hai, he prabhu, he prabhu! vah svarg ke raajy mein pravesh karega, parantu jo mere svarg mein hai, mere pita kee ichchha karata hai. 22 us din bahut se log mujhase kahenge, he prabhu, he prabhu, kya ham tere naam se bhavishyadvaanee nahin karate? aur kya tere naam se dushtaatmaen nikaal dee hain? aur kya tere naam mein hamane bahut chamatkaar nahin kie hain? 23 phir unhen de do main spasht roop se kahoonga: main tumhen kabhee nahin jaanata; tum mujh se door ho jao, tum jo jhooth kaam karate ho 24 isaliye jo koee meree ye baaten sunata hai aur unako karata hai, vah buddhimaan vyakti kee tarah samee jae, jisane apana ghar chattaan par banaaya. 25 aur varsha neeche aaee, aur baadh chale, aur pavan uda, aur us ghar ko maar daala; abhee tak vah gir nahin tha, kyonki vah chattaan par sthaapit kiya gaya tha 26 kintu jo koee meree ye baaten sunata hai aur unako vyavahaar mein nahin rakhata hai, vah moorkh vyakti kee tulana mein hoga, usane ret par apana ghar banaaya. 27 aur varsha neeche aaee, aur baadh chalee gaee, aur havaen utheen, aur us ghar ko maar daala, aur vah gir gaya; aur usake patan ke mahaan the 28 jab yehushu ne yah bhaashan samaapt kiya tha, to log usake sikhaane par chakit hue; 29 kyonki usane unhen sikhaaya hai ki vah adhikaar ke saath hai, aur shaastriyon ke samaan nahin hai. uddharan ke saath uttar den anyajaatiyon mein apane mishan ko poora karane mein, preshit shaool ne kaha: “aap jaanate hain ki mainne aapake beech mein pahale din se eshiya mein pravesh kiya hai …” adhiniyamon 20:17 aadi shamooel mein bhee isee tarah ka vyavahaar dekha gaya tha jab usane praacheen izarail se kaha tha: “… mainne tumhaare saamane chale gae hain … mujhe javaab dene se pahale yeh … … kisase mainne bail ya gadhe ko liya hai …” ? main sm.12: 1, aadi. aaie ham santon ke in udaaharanon ka paalan karen, kyonki unhen sharminda hone kee koee aavashyakata nahin thee. isake vipareet ham keval saphedee sebapars kee tarah honge!

Anúncios

Deixe um comentário

Preencha os seus dados abaixo ou clique em um ícone para log in:

Logotipo do WordPress.com

Você está comentando utilizando sua conta WordPress.com. Sair /  Alterar )

Foto do Google

Você está comentando utilizando sua conta Google. Sair /  Alterar )

Imagem do Twitter

Você está comentando utilizando sua conta Twitter. Sair /  Alterar )

Foto do Facebook

Você está comentando utilizando sua conta Facebook. Sair /  Alterar )

Conectando a %s